Hello दोस्तों। आज के इस पोस्ट में हम PLC के बारे में जानेंगे जैसे की What is PLC, Concept of PLC, Advantage of PLC, Working of PLC etc. इस पोस्ट में बिल्कुल सरल शब्दों में PLC के बारे में पूरी जानकारी देंगे। 

What is PLC - Concept of PLC in Hindi

Introduction of PLC ( What is PLC )

PLC का पूरा नाम Programmable Logic Controller हैं।

PLC एक ऐसा यंत्र या डिवाइस हैं जिसकी मदद से बड़े बड़े फैक्ट्रीयों मे चलने वाले बड़े बड़े मशीनों  को नियंत्रित किया जाता हैं। PLC को हम एक प्रकार का कंप्यूटर भी कह सकते है क्योंकि PLC में भी कंप्यूटर के समान  CPU, Memory, Power Supply आदि होते हैं। PLC को इस प्रकार से समझ सकते हैं।

हम जानते हैं बड़ी बड़ी मशीनो  को कण्ट्रोल करने के लिए उनके अंदर काफ़ी सारे कंट्रोलिंग डिवाइस लगे होते हैं और सभी डिवाइस एक दूसरे से जुडी रहती हैं वो भी PLC के जरिये जुडी होती हैं, मतलब की सारा कण्ट्रोल PLC के पास होता हैं। हम ज़ब चाहे किसी भी डिवाइस के कनेक्शन में बदलाव कर सकते हैं और बदलाव के बाद PLC  से कण्ट्रोल कर सकते हैं और उनके वैल्यू बदल सकते हैं।

उदाहरण – माना एक डिवाइस हैं जो मशीन में हीट  उत्पन्न करते हैं और उसे अभी  40°C ताप उत्पन्न करने के लिए सेट किया गया है लेकिन अगर किसी कारण के चलते हमें 40°C से 20°C ताप पर सेट करना हैं तो ये भी हम बड़ी आसानी के साथ कर सकते हैं और ये काम एक PLC कर सकता हैं।

Concept of PLC in Hindi

इसका पूरा नाम Programmable Logic Controller हैं। PLC एक टेक्निकल डिवाइस हैं तथा औद्योगिक उपयोग के लिए एक विशेष प्रकार का कंप्यूटर हैं जो की किसी Special Function के लिए बनाया जाता हैं।

यह Digital व Anolog दोनों प्रकार के signal इनपुट पर कार्य करता हैं यह इनपुट signal से प्राप्त जानकारी (data)  को मेमोरी चिप में स्टोर करता हैं और माइक्रोप्रोसेसर (CPU) की मदद से instruction के आधार पर उस जानकारी का Analysis / Process करता हैं और अंतिम result को आउटपुट पर भेजता हैं।

Defination Of PLC – यह एक Digital operated electronics System हैं, जिसको industrial वातावरण में विभिन्न प्रकार के Function को Perform करने के लिए किया जाता है।

PLC के पुरे Concept को इसके नाम द्वारा आसानी से समझा  जा सकता है।

P – Programmable- यह एक Programmable युक्ति है जिसे user द्वारा आवश्यक कार्य हेतु  program किया जा सकता है।

L – Logic – यह एक Logical Device है जो binary logic पर कार्य करती है।

C – Controller – यह एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक युक्ति है जिसका उपयोग विभिन्न Industrial operation Process को Control करने में किया जाता है।

Working of PLC ( PLC कैसे काम करता है )

हम जानते है की PLC को कार्य करने के कार्य करने के लिए प्रोग्रामिंग की आवश्यकता होती है। और plc का प्रोग्रामिंग ladder language में किया जाता है। इस language में कुछ symbol का प्रयोग किया जाता है। इस program को कंप्यूटर में लिखकर केबल  द्वारा PLC में डाल दिया जाता है, और यह PLC की Non volatile Memory में save हो जाता है। PLC में इनपुट आउटपुट Module होता है। PLC को हम NO, NC Push button, temperature sensor अथवा  लिमिट स्विच  द्वारा signal देते है। PLC इन signal को लेकर उसको प्रोसेस करता है तथा आउटपुट देता है। यह आउटपुट  Motor valve आदि को जाता है। जितनी भी कंपनी plc को बनाती  है उन सभी के खुद के सॉफ्टवेयर भी होते है जिनमे पीएलसी का program बनाया जाता है।

Advantage of PLC

PLC के लाभ निम्नलिखित है।

  1. Small Size (छोटा आकार)
  2. Easy Modifications
  3. Can work in harsh environment
  4. Flexibility
  5. Higher Speed of Operation
  6. Faster Response time
  7. Minimum Maintenance
  8. Easy to troubleshoot
  9. More reliaable than hardware System

Disadvantage of PLC

  1. दुर्घटना की सम्भावना 
  2. Hold Up Time लम्बा होना
  3. कुछ PLC बिजली सयंत्र बहाल होने के बाद चालू होते है और कोई भी दुर्घटना हो सकती है।
  4. ज़ब कोई problem होती है तो Hold up time आमतौर पर लम्बा होता है या अनिश्चित होता है।

तो दोस्तों आपको what is plc in hindi, Advantage of PLC, Disadvantage of PLC, के बारे में काफी कुछ जानकारी मिली होंगी और उम्मीद है आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा होगा अगर यह पोस्ट पसंद आया तो अपने दोस्तों में शेयर करे और Comment करके हमें बताये।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here